Saturday, 18 April 2015

हिंदी में दर्द भरी शायरी


मोहबत को जो निभाते हैं उनको मेरा सलाम है,
और जो बीच रास्ते में छोड़ जाते हैं उनको, हुमारा ये पेघाम हैं,
“वादा-ए-वफ़ा करो तो फिर खुद को फ़ना करो,
वरना खुदा के लिए किसी की ज़िंदगी ना तबाह करो”

Wednesday, 15 April 2015

दर्द भरी शराबी शायरी


बैठे हैं दिल में ये अरमां जगाये,
के वो आज नजरों से अपनी पिलाये |
मजा तो तब ही पीने का यारो,
इधर हम पियें और नशा उनको आये ||

Thursday, 2 April 2015

तन्हाई की शायरी



Ye tanhai bhi jane,
ek dard jaga deti hai;

dil main jo chupa hai,
ashqo ko bata deti hai;

na pukare hum naam unka,
lab har dastan suna deti hai;

tujhe dekhe bina jab ji nahi pate,
judai kaisa imtihan suna deti hai..

Laut aana tum ye jaan jane se pahle,
jindgi bewqt Anzan bena deti hai..