Sunday, 18 October 2015

दो लाइन शेर-ओ-शायरी

दिल काँच का बनाया होता..

बनाने वाले ने दिल काँच का बनाया होता .
तोड़ने वाले के हाथ मे जखम तो आया होता .
जब बी देखता वो अपने हाथों को ,
उसे हमारा ख़याल तो आया होता!...

No comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.