Wednesday, 15 April 2015

दर्द भरी शराबी शायरी


बैठे हैं दिल में ये अरमां जगाये,
के वो आज नजरों से अपनी पिलाये |
मजा तो तब ही पीने का यारो,
इधर हम पियें और नशा उनको आये ||

No comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.