Saturday, 4 January 2014

दर्द भरी कहानी

दर्द भरी कहानी

कभी दूर जा के रोये कभी पास आके रोये;
हमें रुलाने वाले हमें रुला के रोये;
मरने को तो मरते हैं सभी यारों;
पर मरने का तो मजा ही तब है;
जो दुश्मन भी जनाजे पे आ के रोये।

No comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.