Tuesday, 17 December 2013

दर्द होता है ...

दर्द भरी शायरी





खुद को ख़ुदा कहा और खुद ही ख़ुदा हो गए,
रिश्तों की कशमकश में खुद से जुदा हो गए !
बांचते रहे तमाम उम्र आईने में अपनी सूरत,
तन्हा रहे जिंदगी में और भीड़ में ही खो गए !!

No comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.